मीडिया की सजगता से भक्तों में चेतना आयेगी


अभी एक चैनल द्वारा सात बाबाओं के कमीशन लेकर काले धन को सफ़ेद करने के पर्दाफ़ाश का जो प्रसारण हुआ उस पर देश के प्रचार माध्यमों के एक बहुत बडे वर्ग ने न केवल चुप्पी साध ली वरन खबरे तक प्रसारित नहीं की । जब वूल्मर हत्याकांड पर ब्रिटेन का कोई अखबार या टीवी चैनल कोई खबर चाहे वह महत्वहीन क्यों न हो उस पर झपट लेते हैं पर देश में एक टीवी चैनल द्वारा प्रसारित इतनी बड़ी खबर की अनदेखी इस देश मीडिया की विश्वसनीयता पर प्रश्नचिन्ह लगाती है। अक्सर कई बार ऐसे मौक़े आते हैं जब कोई इन टीवी चैनल वालों वालों से कहता है आप अपनी जिम्मेदारी समझिये तो कहते हैं कि “खबर देना हमारा सामाजिक तथा व्यवसायिक दायित्व है”।क्या देश के समस्त प्रचार माध्यमों का यह दायित्व नहीं था कि वह इस खबर के फुटेज अपने चैनलों पर दिखाते , जब वह किसी विदेशी खबर और वह भी विदेशी चैनल पर प्रसारित होता है उसके फुटेज यहां दिखाए जा सकते हैं तो देशी चैनल से भला एलर्जी क्यों? यह ठीक है कि यह उनका प्रतिद्वंदी चैनल है तो इतना कर ही सकते थे कि नाम लिए बिना खबर का सार ही बता देते। खबर देकर थोडा उस पर अपने प्रसारण इस तरह करते कि जैसे वह उनकी खबर लगे-या फिर लोगों को यह न लगे कि उनकी नहीं है। चलिये उनकी मजबूरी को समझते हैं पर प्रकाशन जगत ने भी इस खबर के साथ ऐसा ही व्यवहार किया। कल और आज दोनों दिन यह खबर मेरे द्वारा देखे गये अखबारों में देखने को नहीं मिली-कुछ अखबार छुट्टी के कारण में देख नहीं पाया पर मुझे लगता है इसे कम महत्व दिया गया है । मैंने अपने शहर के एक ऐसे अखबार में यह खबर देखी जिसमें मुझे इसकी आशा बिल्कुल नहीं कर सकता था, और जो इसका प्रमाण भी था कि आस्थावान लोग इस खबर से विचलित होने वाले नहीं है।कल उपरोक्त टीवी चैनल द्वारा तीन अन्य बाबाओं का भी पर्दाफाश किया गया। बार बार उनका यह कहना कि करोड़ों भक्तों को ठगा गया या उनकी भावनाओं से खिलवाड़ किया गया मुझे अतिशयोक्ति लग रही थी। किसी संत या बाबा से विश्वास हटना किसी सच्चे भक्त की आस्था को कम नहीं कर सकता। लोग इन बाबाओं के प्रवचन कार्यक्रमों में जाते हैं और उनका लाभ भी उठाते हैं पर जानते हैं यह भक्ती जगाने वाले माध्यम हैं न कि भगवान हैं, और ज्ञान जो देते हैं वह कोई उनका अपना नहीं है वरन वह तो वैसे भी धरम ग्रंथों में है। हमने देखा हैंकि कई ऐसे लोग भी वहां जाते हैं जो सोचते हैं भक्ती और ज्ञान प्राप्त करने के अलावा समय भी अच्छा पास हो जाएगा। इन बाबाओं के रहन सहन और दैनिक क्रियाकलापों में बस वह भक्त रूचि रखते हैं जो इनसे कोई भौतिक या अन्य सांसरिक लाभ प्रत्यक्ष रुप से लेना चाहते हैं और उनकी संख्या नगण्य होती है। जो लोग इस खबर पर हिंदू धर्म पर किसी प्रकार का आक्षेप समझ रहे है उनसे मैं सहमत नहीं हूँ क्योंकि इन तथाकथित संतो में कोई हिंदू धरम का स्तम्भ होना तो दूर एक ईंट तक नहीं है। हमारे धरम में समय समय पर अनेक महापुरुषों ने इस धरती पर उत्पन्न होकर अपने करम और यश से अपना योगदान दिया पर फिर भी हमारी भक्ती व्यक्ति परक नहीं बल्कि विचार परक और निष्काम भाव से परिपूर्ण रही है ।मैं आशा करता हूँ कि लोग अब और जागरूक होंगे तथा इन बाबाओं से बचने के लिए उनेमें चेतना उत्पन्न होगी। इन तथाकथित बाबाओं के बौद्धिक चातुर्य और वाक्पटुता के जाल में आसानी से फंस जाता है। खासतौर से महिलाएं इनके प्रभाव में इस तरह आती हैं वह अपने घर के पुरुष सदस्यों को इन बाबाओं के सेवा और शरण लेने ले लिए प्ररित करती हैं या दवाव डालती हैं। इनके वजह से कई घरों में क्लेश भी होते हमने देखा है । मीडिया को चाहिए कि ऐसे बाबाओं को बेनकाब कर अपने सामाजिक दायित्व को पूरा करने के लिए प्रयास करता रहे। मैं स्वयं आस्थावान हूँ पर अंधविश्वास से मुझे परहेज है। मेरा मनाना है हमारा धर्म शाश्वत सत्य पर आधारित है जिसमें अंधविश्वास का कोई स्थान नहीं है। एक भक्त के रुप में मुझे इस बात की चिन्ता नहीं हैं कि किस बाबा या संत को बेनकाब किया गया है।

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: