सर्वांगीण विकास की बात क्यों नही करते


                यह प्रश्न नहीं है कि किसी जात के लिए सरकारी नौकरियों में आरक्षण की माँग जायज है कि नहीं क्योंकि ऐसा करने से इस आलेख का मूल उद्देश्य ही खत्म हो जायेगा । जब मैं किसी की बात कहता हूँ तो एक व्यक्ति के लिए होती है। व्यक्ति भले एक समूह में खडे हौं पर उनकी सोच एक व्यक्ति के रुप में खत्म नहीं हो जाती है अगर कोई व्यक्तियों को एकत्रित कर उनकी भीड़ जुटाता है तो पहले उनकी बुध्दी का हरण करता है और फिर अपने विचार और लक्ष्य को उसमें ऐसे स्थापित करता है कि लोग उसके विचार और लक्ष्यों को अपना समझने लगते हैं और व्यक्ति एक भीड़ का हिस्सा बन जाता है और फिर शुरू होता है उस भीड़ एकत्रित करने वाले का खेल जिसे सीधी भाषा में कहें कि वह रोटियाँ सकने का काम होता है ।
                      मैं हमेशा कहता हूँ कि जो मुद्दे उठाये जा रहे हैं उनका लक्ष्य वह नहीं है जो कहा जा रहा है बल्कि कुछ और होता है जो छिपाया जाता है । एक तो यह कि आम आदमी का ध्यान अपने कर्णधारों की तरफ लगा रहे -लोकतंत्र में जनता के मतों पर चलने वाले लोगों के लिए यह आवश्यक है कि वह सतत रुप से उनका ध्यान आकर्षित किये रहे और अपने देश में इसीलिये ऐसे मुद्दे उठाते हैं जिनमें कोइ ज्यादा बड़ा सोच नहीं होता, दूसरा यह कि कहीं खाली बैठा मतदाता असली मुद्दों की तरफ ध्यान न देने लगे इसीलिये उसे इन सतही मुद्दों में उल्झाये रहो-ताकि वह हमेशा भ्रमित रहे ।
              आरक्षण देना चाहिऐ या नही यह एक अलग मामला है इससे पहले कुछ प्रश्नों पर विचार किया जाना चाहिए
          ।१। इसका लाभ किसे और कैसे हुआ है या होने वाला है? और जिस लाभ की बात की जा रही है वह वास्तविक रुप से है या नहीं
           ।२।जिन लोगों ने इसका लाभ लिया क्या उन्होने अपने समाज के लिए कुछ किया ? और किया तो ऐसे लोगों की संख्या कितनी है?
            ३।क्या समाज को उठाने का यही एक तरीका है ? इसके अलावा और कुछ करने को नहीं है। जो लोग इसके लिए प्रदर्शन कर रहे हैं क्या सबको नौकरी मिल जायेगी ।
            हम तर्क चाहे जो दे लें आरक्षण एक तरह से छलावा है – उतना ही छलावा है इसका विरोध । एक तरफ यही जो लोग आरक्षण को उचित ठहराने के लिए तथाकथित रुप से जातिगत तर्क देते है और दुसरे तरफ यही लोग किसी दुसरे मंच पर जातिवाद खत्म कराने के बात करते हैं , देश के विकास के लिए एकता के बात करते हैं । एक तर्क है कि समाज में जातिवाद है इसीलिये सरकार को जातिगत आधार पर आरक्षण देना चाहिए तो मुझे इन लोगों से प्रश्न है कि क्या आदमी में अन्दर कितना जातिवाद है और वह दिन में कितनी बार अपनी जात को याद करता है ? समूह का कोई सोच नहीं होता और व्यक्ति से सोच में जातिवाद हो ही नहीं सकता क्योंकि आज के युग में अगर किसी को जात की जरूरत होती है तो केवल शादी-विवाह के समय अपने लड़के-लड़कियों के लिए सुयोग्य पात्र ढूँढने के लिए होती है । बाकी तो कौन अपनी जात का और जात वाले व्यक्ति उसके कितने अपने होते हैं वह भी एक विचारणीय प्रश्न हैं।
जिन लोगों ने जात के आधार पर सरकारी सेवाओ में आरक्षण लिया है उन्होने समाज से अलग अपना एक सभ्रांत समाज बना लिया और अपढ़ और गरीब व्यक्ति से दूर ही रहना पसंद हैं । अपने लड़के के लिए वह अपने समाज के किसी गरीब और अशिक्षित व्यक्ति या परिवार की शिक्षित लडकी को कम दहेज़ लेकर बहु बनाने की बजाय अपने स्तर की परिवार से अधिक दहेज़ लेकर उससे विवाह करने को प्राथमिकता देते है। उस समय वह वैसी ही नाटक बाजी करते है जैसे अनारक्षित वर्ग वाले करते हैं तो क्या इसे ही विकास कहते हैं ?

              सता में अपनी जात के नाम पर भागीदारी लेने वाले लोगों ने अपने जातीय समुदाय को क्या दिया यह जरा उनके समुदाय में जाकर पूछिए । जब उनके खुद के कार्य में कोई रुकावट आती है तो फिर अपने समुदाय को जात का वास्ता देकर भीड़ इकट्ठा करने के लिए उद्यत हो जाते हैं ।
                 आरक्षित वर्ग के पुराने समुदाय के लोग इन बातों को समझ गये है और वह किसी जाल में नहीं फंस रहे तो फिर अब इसके लिए नए समुदायों को तैयार किया जा रहा है-कहीं समुदायों को नये मुद्दों में उलझाने के प्रयास हो रहे हैं । वास्तविक धरातल से अनभिज्ञ लोग फिर उनके उकसावे में आकर भारी तकलीफें उठा रहे हैं जिससे देखकर दुःख होता है । अगर आंदोलन से उन्हें कुछ हसिल् हो जाए तो किसी को आपत्ति नहीं है , पर सच यह है कि सरकारें उस मात्रा में नौकरियाँ दे नहीं रहीं जिसकी आशा लोग कर रहे हैं और देंगी भी तो जातियों का विकास नहीं होने वाला-आरक्षण से यह सिध्द हो चुका है कि इससे समुदाय के केवल शिक्षित लोगों को ही लाभ होता है और वह भी समय के साथ नगण्य हो रहा है-जिन लोगों ने लाभ लिया है उन्होने अपने समुदाय के लोगों को लाभ देने का कोई प्रयास नही किया।
       अगर यही आंदोलन वह अपने इलाकों में सड़क ,पानी, बिजली और स्वास्थ्य सेवाओं के लिए करते तो कितना अच्छा रहता , पर उनके मुखिया ऐसा नहीं करेंगे क्योंकि उस विकास से उनका कोई हित नहीं सधता-इसके अलावा जात, धर्म और भाषा के लिए लोगों को की भीड़ एकत्रित करना आसान है और फिर उससे वोट लेकर सता में पहुंच जाते है और समग्र विकास के बात करते हुए चलाते रहना ज्यादा बेहतर लगता है । इस समय देश में अनेकों संकट हैं और इस भीषण गर्मी में कई जगह पेयजल का संकट है और लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं पर ताज्जुब है कि इसके लिए कोइ बड़ा आन्दोलन चलने की खबरें नहीं आती – कहीं से ऐसे जन- आंदोलन की खबर नहीं आती कि लोगों ने अपने पैसे और परिश्रम से पाने के लिए स्वयं प्रयास किया हो या जल्संरक्षण के लिए प्रयास किया हो । छुटपुट आंदोलन वह भी स्थानीय प्रशासन के खिलाफ होते हैं उनकी खबरें आती हैं पर आन्दोलन का मतलब केवल सरकार के खिलाफ ही नहीं होता बल्कि आम लोगों को साथ लेकर सुधारों के लिए भी होते हैं । महात्मा बिनोवा भावे का भूदान आंदोलन कोई किसी सरकार के खिलाफ नहीं था बल्कि समाज को जोड़ने के लिए एक सकारात्मक प्रयास था।

   
             गर्मी आने से पहले कहीं ऐसा जन-आंदोलन चलने के खबर नहीं आती ,उल्टे इस भीषण गर्मी में लोगों को ऐसे मामले में एकत्रित किया जा रहा है जो उनके जीवन की आधारभूत जरूरतों से कोई संबंध नहीं रखते । कहीं धर्म के रक्षा तो कहीं जात के अस्तित्व का संकट तो कहीं भाषा के गूंगी होने का भय दिखाकर भीड़ एकत्रित करने वाले लोगों की चाल, चरित्र और चेहरा सब जानते हैं फिर भी उनके पीछे हो जाते हैं-गभीर विषयों की बजाय नारों से अपने हित साधने वालों की इस देश में कमी नहीं है । हमें तो लगता हैं कि विकास का मुदा कोई उठाना ही नहीं चाहता क्योंकि उसके लिए किसी के पास कोई कार्य योजना नहीं है और इसीलिये वह ऐसे अर्थहीन मुद्दे उठाकर लोगों में अपनी छबि चुनावों के लिए बनाये रखना चाहते हैं और ऐसा कर अपने विरोधियों को भी ऐसा ही अवसर प्रदान करते है । तब कुछ लोगों को संदेह भी होता है कि कहीं ऐसे मुद्दों को योजनाबध्द ढंग से तो नहीं उठाया जा रहा है।
                जहां तक जातियों और समुदायों के हितों का सवाल है तो सब जानते हैं गरीब और असहाय का कोई नहीं है और अगर उनके रहनुमा इतने ही ईमानदार हैं तो क्यों नहीं अपने अन्दर मौजूद आर्थिक-सामाजिक विषमताओं तथा रुढियों तथा अंधविश्वासों के विरूध्द आंदोलन चलाते । अपने समाज में जागुरुक्ता लाने का प्रयास लाने के लिए कोई बड़ा आंदोलन चलाने का साहस क्यों नहीं करते? इसीलिये न कि इससे उनको कोई राजनीतिक फायदा नही होने वाला । सच तो यह कि लोग अपने जात- और समुदायों के नाम पर लाभ तो उठाना चाहते हैं पर उनका भला कोई नहीं करना चाहता। कितने लोग अपनी जात समुदाय के लोगों का हित चाहते हैं यह हम सब जानते हैं क्योंकि हम सब स्वयं भी किसी न किसी से संबंधित हैं । हम लोग देश के सर्वांगीण विकास की बात सोचते हैं पर कुछ लोगों को इससे राहत नहीं मिलती और वह समाजो की आपसी रिश्तों में दरार डालकर अपने हित साधना चाहते हैं । शेष अगले अंक में .

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: