Tag Archives: friends essay on india digital

दंड शक्ति होने के बावजूद योगी उद्दण्ड नहीं बनते-हिन्दी चिंत्तन लेख


                              एक पूर्व क्रिकेट खेल व्यापारी का किस्सा इन दिनों अंतर्जाल और प्रचार माध्यमों में छाया हुआ है। क्रिकेट के व्यापार में अनेक आरोपों का बोझ उठाये वह लंदन में बैठकर भारत में दूसरों पर आक्षेप कर अपने नायकत्व की छवि बना रहा है। भारतीय राजनीति के अनेक शिखर व्यक्तित्व उसके निशाने पर हैं।  हमारी इस तरह के राजसी विषय में इतनी रुचि नहीं है कि इस पर अधिक लिखने का प्रयास करें पर जिस तरह इस आड़ में योग विषय का मजाक बनाया जा रहा है वह थोड़ा आपत्तिजनक लग रहा है। उसे लेकर भारतीय शासन क्या कदम उठायेगा इस पर टिप्पणी करना हमारा काम नही है पर इस प्रसंग से उत्साहित कुछ लोग बराबर यह कह रहे हैं कि समाज को  योग साधना की प्रेरणा देने की बजाय शिखर पुरुषों को राजसी विषयों पर अपना हाथ दिखाना चाहिये।

                              अभी 21 जून को योग दिवस के अवसर भारत के अनेक राजसी शिखर पुरुषों ने सार्वजनिक  स्थानों पर साधना करते हुए समाज में चेतना लाने का प्रयास किया।  इससे समाज में चेतना कितनी फैली यह अलग से चर्चा का विषय है पर एक बात तय है कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर योग विषय का विस्तार होगा।  योग न करने वाले कभी इसके अभ्यास करने वालों को समझ नहीं पाते तो विरोधियों का कहना ही क्या? योग साधकों को किसी विषय पर उत्तेजित नहीं करना चाहिये। जिन्होंने इसका बरसों अभ्यास किया हो उन्हें हम जैसे कम अवधि के साधक भी चुनौती नहीं देते। जब कोई दूसरा उनको देता है तो उस पर हंसी ही आती है। सच बात तो यह है कि अधिक अभ्यास करने वाले योगियों के पास दंड देने की स्वाभाविक रूप से आ जाती है पर इसका मतलब यह कतई नहीं कि वह उद्दंडता पर उतर कर दूसरों को संतुष्ट करने का प्रयास करें।  दूसरी बात यह कि योगी का मौन हमेंशा चिंत्तन और मनन की क्रिया के लिये होता है इसलिये किसी खास विषय पर उनसे तत्काल निष्कर्ष बताने की आशा नहीं करते।  जब वह अपने समय पर बताते हैं तो दूसरे को हतप्रभ कर देते हैं। हम स्पष्ट कर दें कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में अगर योग का विषय अनावश्यक रूप से नहीं घसीटा जाता तो हम कभी यह लेख नहीं लिखते। अपने बारह अभ्यास से योग विशारद लोगों की छवि हमारे हृदय में है उसी के कारण यह लिखने के लिये प्रेरित भी हुए। किसी के प्रति भ्रम या दृढ़ विश्वास व्यक्त करना भी हमारा लक्ष्य नहीं है क्योंकि अंततः यह धरती गोल है-यहां समय ही सबसे बलवान है।

———————

लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप,

ग्वालियर मध्यप्रदेश

writer and poet-Deepak raj kukreja “Bharatdeep”,Gwalior madhya pradesh

संकलक, लेखक और संपादक-दीपक ‘भारतदीप’,ग्वालियर   

athor and editor-Deepak  “Bharatdeep”,Gwalior

http://zeedipak.blogspot.com

यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका